Home Blog

New Job Salary ₹50,000

0

New Job Salary ₹50,000

मैडम से संपर्क करने के लिए 

APPLICATION FORM नीचे है

Best Web Hosting for Small Business (Best web hosting for small business)

एक अच्छा व कारगर Webspace या Web Hosting Service के चुनाव हेतु कुछ मुख्य बिन्दुएँ हैं.

जिसका आपको ध्यान रखना चाहिए. इनकी जानकारी और समझ कतई जटिल नही है !

अगर आपने Self Hosted Blog का चुनाव किया है. तब Domain Name के अलावा Web Hosting भी आपकी मूल आवश्यकता होगी. Blogger या WordPress (मुफ़्त सेवा) पर जब आप ब्लॉग बनाते हैं. तब अपने लेख से लेकर सभी सामग्री (जैसे चित्र, डाक्यूमेंट्स इत्यादि) आप उनके Web Server पर ही रखते हैं.

परन्तु सेल्फ होस्टेड ब्लॉग में आपको इसकी व्यवस्था खुद करनी पड़ेगी. इसके लिए आपको Web Space की आवश्यकता होगी जहाँ आपकी सभी फाईलें रखी जाएगी.


यह आपके वेबसाइट के मूलभूत सुविधा में आता है

कंप्यूटर लेते समय एक अच्छे हार्ड डिस्क की जितनी महत्ता है उतना ही आपके वेबसाइट के लिए वेब होस्टिंग सेवाप्रदाता और उनकी पेशकश की. यह वही सेवा है जो आपको अपने वेबसाइट पर सामग्री रखने तथा पाठकों तक उसे पहुंचाने की सुविधा प्रदान करता है.

एक अच्छा व कारगर Webspace या Web Hosting Service लेने से पहले निम्न बिन्दुओं पर अवश्य विचार करें. इनकी जानकारी और समझ कतई जटिल नहीं है !

1. Webspace – क्या और कितना ?

कुल Webspace आपकी आवश्यकता पर आधारित होता है. इसका निर्धारण इस बात से कर सकते हैं कि आप कितना फाइल अपलोड करना या सर्वर पर रखना चाहते हैं. एक आम ब्लॉग के लिए 500MB-1GB पर्याप्त है. कई Hosting Service Provider आपको असीमित जगह का भी विकल्प देती है. ऐसा लेने से पहले उनके नियमावली जरूर पढ़ लें क्योंकि यह कई बार ग्राहकों को भ्रमित करने के लिए या महज़ एक मार्केटिंग स्टंट होता है.

बोनस टिप्स : अगर चुनिन्दा वेब सेवा प्रदाता आपके सामने कई विकल्प रखता है तो शुरुआत में कम वाला ले सकते हैं और आवश्यकतानुसार भविष्य में इसे घटा-बढ़ा सकते हैं जो आपके लिए किफायती होगा. अगर आप उनके परफॉरमेंस को लेकर आसक्त होना चाहते हैं तो शुरुआत में कम समयावधि वाला प्लान लें और संतुष्ट होने पर इसे बढ़ा लें या बदल लें.

2. Monthly Bandwidth – अपेक्षित पाठक संख्या के अनुसार ही लें

कुल बैंडविड्थ की आवश्यकता इस बात पर निर्भर करती है कि आपके वेबसाइट पर कितने लोग आएंगे और कितनी सामग्री download करेंगे (वेबसाइट खुलने का मतलब ही है कि पाठक डाटा डाउनलोड कर रहे हैं – इसे अलग से डाउनलोड न समझें).

बहुत सारे webhost असीमित बैंडविड्थ भी उपलब्ध कराते हैं, परन्तु उपरोक्त बिंदु के अनुसार इसका भी आकलन कर लें और नियमावली देख लें.

3. Uptime – अत्यंत महत्वपूर्ण

“सर्वर डाउन चल रहा है” – अगर आपने कभी यह सुना होगा तो Uptime भी समझ सकते हैं.

Uptime एक तरह से उनके गुणवत्ता का मानक है और यह आपके वेबसाइट के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण भी. यह दर्शाता है कि उनका सर्वर कितने देर (प्रतिशत में) ऑनलाइन या उपलब्ध रहता है. हालाँकि लगभग सभी WebHost 99.9% या इससे ज्यादा का दावा करते हैं, फिर भी आप विभिन्न फोरम में या किसी विशेषज्ञ मित्र से राय जरूर ले लें. इनमे कुछ अग्रणी नाम है Hostgator (Hostgator India से परहेज करें), BlueHost और DreamHost.

4. Linux या Windows प्लेटफार्म ?

ज्यादातर सेवा प्रदाता Linux पर आधारित सर्वर ही उपलब्ध कराते हैं. अगर आपका वेबसाइट .net तकनीक पर बना है तो Windows प्लेटफार्म लें.

WordPress तथा अन्य प्रचलित ब्लॉगिंग प्लेटफार्म के लिए Linux सबसे अच्छा या अनिवार्य विकल्प है.

आम तौर पर ज्यादातर लोग Linux पर आधारित सर्वर को प्राथमिकता देते हैं क्योंकि कई मामले में यह Windows Server से बेहतर और उपयुक्त होता है. परन्तु आप अपनी आवश्यकता को प्रधानता देते हुए ही इसका चुनाव करें.

5. Multiple Domains – एक से अधिक वेबसाइट या ब्लॉग के लिए

यह एक वैकल्पिक सुविधा है जो लगभग सभी सेवा प्रदाता आपको देते हैं. बताई गयी राशि के अनुसार वह आपको एक या एक से अधिक डोमेन नेम के साथ वेब होस्टिंग की सुविधा देते हैं. इसका लाभ यह होता है कि दूसरे या अन्य डोमेन के लिए आपको अलग से होस्टिंग स्पेस लेने की ज़रूरत नहीं होती. हाँ, आप यह अवश्य सुनिश्चित कर लें कि इसके लिए आपके पास पर्याप्त webspace और bandwidth है.

बोनस टिप्स : Web Hosting Service Providers कई बार Coupon Code के तहत भारी छूट भी देती है. पूरी राशि अदा करने से पूर्व गूगल पर एक बार उस कंपनी के नाम से Discount Coupons अवश्य खोज लें.

इसके अलावा आप अन्य सुविधा जैसे अलग से wordpress के लिए उन्नत सेवा, CDN की सुविधा, email account की सीमा एवं संख्या, कुल डेटाबेस की संख्या-सीमा इत्यादि की भी जाँच कर लें. इस बात को इंगित करने की जरुरत नहीं कि कोई समस्या आने पर सेवा प्रदाता त्वरित कार्यवाही या आपकी सहायता करे.

नोट : डोमेन नेम की तरह उपरोक्त सेवा भी दिए गए समयावधि पर आपको ‘renew’ करना होता है.

_______

Topics Covered : How To Choose A Good Web Hosting Service, Choosing Right Webspace & Bandwidth Plans, Web Hosting Related Tips

     मैडम से संपर्क करने के लिएआवेदन फार्म को भरें
और
SUBMIT बटन को क्लिक करें
👇👇

  •  

143 का मतलब क्या होता है – 143 Ka Matlab Kya Hota Hai ?

143 का मतलब क्या होता है. 143 Ka Matlab Kya Hota Hai. 143 क्या है। 143 Kya Hai. 143 का मतलब I Love You कैसे होता है.

दोस्तों जब से Social Media का उपयोग अधिक होने लगा है तब से हम लोग किसी भी बात को Short में कहने के आदी हो गए हैं. किसी भी बात को हम अपने तरीके से Short में कह देते हैं.

Social Media WhatsApp फेसबुक तथा मैसेंजर में चैटिंग करते समय हम कई शब्दों को पूरा लिखने की जगह आधा ही Short में लिख देते हैं. जैसे कि Gn का मतलब Good Morning होता है. SD का मतलब Sweet Dreams होता है. Tc का मतलब Take Care होता है.

और समझने वाले भी क्या करें बेचारे , उन्हें भी धीरे-धीरे इसकी आदत पड़ जाती है.

स्पेशली WhatsApp की उपयोग की अधिकता के कारण हम हिंदी या फिर इंग्लिश शब्दों की जगह Hinglish शब्दों का अधिक उपयोग करते हैं. इससे हमें Keyboard में टाइपिंग करने में भी आसानी होती है. जैसा कि आपको पता है Keyboard में हिंदी में टाइपिंग करना थोड़ा कठिन काम है.

143 का मतलब क्या होता है । (143 का Matlab Kya Hota Hai In Hindi And English)

मित्रों जैसा कि मैंने ऊपर में बताया कि आजकल सभी चीजों को पूर्ण रूप में लिखने की जगह सुविधा हेतु Short में ही लिख दिया जाता है. इस प्रकार से 143 का मतलब I Love You होता है.

है ना? अजीब बात कि किसी 3 अंकों का मतलब I Love You भी हो सकता है. लेकिन क्या करें मित्रों यह भारत है यहां कुछ भी हो सकता है खैर आगे हम बताएंगे कि 143 का मतलब I Love You कैसे होता है.

143 का मतलब I Love You कैसे होता है। (143 Ka Matlab I Love you Kaise Hota Hai)

दोस्तों भारतीय आशिकों का कोई जवाब नहीं. भारत में पहले से ही हीर रांझे सोनी महिवाल जैसे प्रेमी का जन्म हुआ था. आज भी उनके प्रेम को जमाना याद करती है.

हमारे भारत की आशिक अपने प्यार का इजहार करने के लिए कई ऐसे तरीके ढूंढ निकालते हैं जो सिर्फ वह दोनों आशिक ही जान सकते हैं. और कोई नहीं। इस देश के आशिक अपने प्रेम का इजहार करने के लिए ऐसे तरीके खोज लेते हैं. जिनसे दो आशिको के बीच प्यार का इजहार भी हो जाता है. और दुनिया को पता भी नहीं चलता है.

खैर तो आगे हम आपको बताते हैं कि 143 का मतलब I Love You कैसे होता है ?

1 का मतलब I 

4 का मतलब Love

3 का मतलब You

ऊपर के शब्दों को देख कर आपको पता चल ही गया होगा कि 1 का मतलब I होता है. मतलब की I एक शब्द है इसीलिए उसके जगह एक का इस्तेमाल किया जाता है.

4 का मतलब You होता है मतलब की Love का स्पेलिंग 4 अल्फाबेट से मिलकर बना है. इसीलिए 4 का मतलब Love से लिया जाता है।

तथा 3 का मतलब You से लगाया जाता है. क्योंकि You 3 अल्फाबेट से मिलकर बनता है इसीलिए You के जगह 3 का इस्तेमाल करते हैं.

143 का मतलब क्या होता है - 143 Ka Matlab Kya Hota Hai ?
143 का मतलब क्या होता है – 143 Ka Matlab Kya Hota Hai ?

इस प्रकार से यह I Love You का मतलब 143 भी होता है तथा 143 का मतलब I Love You भी होता है।

अगर आप चाहे तो 143 का मतलब I Like You भी समझ सकते हैं।

आखिरी शब्द (Last Word)

तो दोस्तों आज हमने इस पोस्ट में जाने की 143 का मतलब I Love You होता है. तथा यह भी जाना कि 143 का मतलब I Love You कैसे होता है. इसके साथ ही हमने इस बारे में भी विचार किया कि जिस तरह से 143 का मतलब I Love You होता है उसी प्रकार से 143 का मतलब I Like You भी हो सकता है.

तो दोस्तों आपको यह पोस्ट कैसी लगी. तथा यह जानकारी कैसी लगी. इसके बारे में नीचे कमेंट करके जरूर बताइएगा. इस पोस्ट को पढ़ने के लिए धन्यवाद. आशा करते हैं कि इस वेबसाइट पर आप रोजाना विजिट करेंगे धन्यवाद. Thank You

Keylogger क्या होता है? Keylogger Kya Hota Hai.

Keylogger क्या होता है (Keylogger Kya Hota Hai ) इसके फायदे और नुकसान क्या है. Keylogger से कैसे बचें. Keylogger के कितने प्रकार होते हैं. Keylogger Installation Download. Keylogger से अपने बैंक खाते को कैसे बचाएं.

दोस्तों यह जमाना विज्ञान का जमाना है. हमारे चारों तरफ विज्ञान के प्रभाव देखे जा सकते हैं. विज्ञान ने छोटी बड़ी बहुत सारी मशीनें बनाई है. बहुत सारे तकनीकों का आविष्कार किया है. बहुत सारी डिवाइस का आविष्कार किया है. जो हमारी लाइफ को सुविधाओं से भर दिया है. 

विज्ञान ने ऐसे टेक्नोलॉजी का आविष्कार कर दिया है, जिसके बारे में कुछ शताब्दियों पहले हम सोच भी नहीं सकते थे. विज्ञान ने Computer मोबाइल टेबलेट जैसी बहुत सारी टेक्निकल डिवाइस आविष्कार किया है. 

मोबाइल टेबलेट Computer हमारी जिंदगी को बहुत ही आसान बना दिया है. Computer मोबाइल टैबलेट में मनोरंजन के लिए बहुत सारी एप्लीकेशन होती हैं. जिनकी सहायता से हम अपने काम को बहुत ही आसानी से कर पाते हैं. इसका उपयोग हम मनोरंजन के लिए भी करते हैं, और अपने काम को सरल बनाने के लिए भी करते हैं.

Best 3g Ram 4g Mobile Under 10000 In India 2020

परन्तु हर सिक्के के 2 पहलू होते हैं. पहला अच्छा और दूसरा बुरा पहलू. विज्ञान में ऐसी तकनीकों का आविष्कार कर दिया है जो हमारे जीवन को सरल तो बनाता है. परंतु सरल बनाने के साथ ही यह हमें असुरक्षित कर देता है. जितना ज्यादा हम तकनीकों का इस्तेमाल करते हैं उतना ज्यादा और सुरक्षित हो जाते हैं.

Hackers द्वारा हमारे डिवाइस पर हमला कर दिया जाता है. और हमारा तथा हम से संबंधित सूचनाएं को एकत्र कर लिया जाता है.उन सूचनाओं उपयोग हैकर्स अपने फायदे के लिए करते हैं. हम से संबंधित सूचनाओं को प्राप्त कर लेने के पश्चात हैकर्स हमें नुकसान पहुंचा सकते हैं. यह नुकसान हमें Financial, शारीरिक तथा मानसिक हो सकता है.

इसीलिए हमें चाहिए कि हम अपने तकनीकी Device का उपयोग सोच समझ कर करें. ताकि हम अपने आपको हैकर की पहुंच से दूर रखें.

Best 4g Mobile Under 5000 in India

आजकल इतने सारे तकनीक और डिवाइस, एप्लीकेशन का आविष्कार हो चुका है. जिसकी सहायता से हैकर्स को हमारे डिवाइस तक पहुंचने में कोई कठिनाई नहीं होती है. वह आसानी से हमारे डिवाइस तक पहुंच जाते हैं. और हमारे डिवाइस को एक्सेस कर लेते हैं. और हमें नुकसान पहुंचा देते हैं.

इस पोस्ट में हम जानेंगे कि Keylogger क्या है? Keylogger हमें किस तरह से नुकसान पहुंचा सकता है? Keylogger से कैसे बचें? Keylogger के फायदे क्या हैं? और उसके नुकसान क्या है?

Keylogger क्या है? (Keylogger Kya Hota Hai)

Keylogger एक Computer Designed Program सॉफ्टवेयर है. Keylogger की सहायता से हैकर्स हमारे डिवाइस को मॉनिटर कर सकते हैं. Keylogger की सहायता से Hackers जान सकते हैं कि हम अपने डिवाइस में क्या टाइप कर रहे है?. किस वेबसाइट पर जा रहे हैं. अपने डिवाइस पर कौन सा एप्लीकेशन का उपयोग कर रहे हैं. तथा हमारे मैसेज तथा ईमेल को Illegal रूप से Read किया जा सकता है.

मतलब कि हमारे डिवाइस में Keylogger Install होने के बाद हम अपने डिवाइस में कौन सी गतिविधियां कर रही है. हैकर्स को उसका पता चल जाता है. और hackers उसका गलत इस्तेमाल करते हैं. 

उसके गलत इस्तेमाल से हमें अपने बैंक अकाउंट के पैसों से हाथ धोना पड़ सकता है. तथा कई प्रकार की शारीरिक तथा मानसिक नुकसान भी उठाना पड़ सकता है.

Keyloggers के प्रकार (Keylogger Ke Prakar)

Keylogger मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं. एक हार्डवेयर Keylogger और दूसरा सॉफ्टवेयर Keylogger. हार्डवेयर Keylogger सॉफ्टवेयर Keylogger क्या होता है नीचे दिया गया है.

हार्डवेयर Keylogger क्या होता है ?

हार्डवेयर Keylogger साधारण सा एक पेनड्राइव या डोंगल के जैसे होते हैं. उसको कीबोर्ड के में Attached कर दिया जाता है. आजकल Technology ज्यादा सफल हो चुका है. इसीलिए हार्डवेयर Keylogger को कीबोर्ड के अंदर ही Install किया जा सकता है. और कीबोर्ड के अंदर Keylogger अटैच होने के बाद हमें यह पता नहीं चलता कि Keylogger उसको कहां इंस्टाल किया गया है.

सॉफ्टवेयर Keylogger क्या होता है?

जैसे कि मैंने पहले ही बताया था कि सॉफ्टवेयर Keylogger एक Computer डिजाइन प्रोग्राम है. इसीलिए इसे वेब पेज या फिर एप्लीकेशन के रूप में डिवाइस पर Install किया जा सकता है. जब हैकर्स आपके डिवाइस में से Install करता है तब आपको पता नहीं चलता है. ऐसे ही सॉफ्टवेयर Keylogger कहते हैं. आजकल कीबोर्ड तथा माउस ब्लूटूथ की सहायता से चलते हैं जोकि इंक्रिप्टेड सिग्नल का उपयोग करते हैं. हैकर्स के द्वारा इनको आसानी से हैक कर लिया जा सकता है.

Keylogger आपके डिसाइड पर कैसे Install किया जा सकता है. 

जैसे कि मैंने बताया कि Keylogger हार्डवेयर के रूप में भी आता है. इसलिए यह आपके डिवाइस में डोंगल और पेन ड्राइव कि जैसे दिखने वाले हार्डवेयर के द्वारा इनस्टॉल किया जा सकता है. जब आप किसी Unknown वेबसाइट पर जाते हैं तब वहां वेबसाइट या हैकर्स के द्वारा आपके डिवाइस पर Keylogger Install कर दिया जाए सकता है. 

जब किसी Unknown इंसान से या कंपनी से कोई ईमेल आता है. तब उस ईमेल में Attached File के रूप में Keylogger आपके डिवाइस पर हो जाता है.

जैसा कि मैंने ऊपर में बताया कि Keylogger एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है. इसलिए यह एक एप्लीकेशन के रूप में भी हो सकता है. जिसे आपके डिवाइस पर आसानी से Install कर  दिया जा सकता है.

Keylogger के लाभ (Benefits Of Keylogger)

जैसा कि आपने ऊपर में Keylogger के बारे में जान लिया है. और यह भी जान लिया है Keylogger यदि आपके डिवाइस पर स्टाइल कर दिया जाता है. तो यह आपको कितना नुकसान पहुंचा सकता है. यह आपके प्राइवेसी को नष्ट कर सकता है. इसके बाद भी Keylogger की कुछ लाभ हैं. जो इस प्रकार से हैं;-

  • Keylogger का उपयोग ऑफिस में, ऑफिस वर्कर के काम को मॉनिटर करने के लिए किया जाता है और यह देखा जाता है कि वह ऑफिस समय के दौरान क्या-क्या करते हैं।
  • Keylogger का उपयोग Cyber cafe में किया जाता है  ताकि यह पता चल सके कि जिस Computer पर यूजर कार्य कर रहे हैं वह कोई गलत कार्य तो नहीं कर रहे हैं.
  • Keylogger का उपयोग किसी डिवाइस या फिर डॉक्यूमेंट में Word काउंट करने के लिए भी किया जाता है.

Keylogger के नुकसान या हानियां (Disadvantage Of Keylogger)

  • Keylogger की सहायता से आपकी डिवाइस को पूरी तरह से मॉनिटर कर सकते हैं और अपनी गतिविधियों को जान सकते हैं। जिससे आपकी प्राइवेसी नष्ट होती है
  • Keylogger से मुख्यतः यह देखता है कि आप क्या टाइप कर रहे हैं इसलिए जब भी आप किसी ऑनलाइन बैंकिंग अकाउंट में लॉगइन करने के लिए अपना आईडी और पासवर्ड डालते हैं तो यह Keylogger में रिकॉर्ड हो जाता है जो आपके लिए परेशानी खड़ी कर सकती है। उसके बाद यह सॉफ्टवेयर अपने डाटा को कैसे थर्ड पार्टी इंसान को सेंड कर देता है जो आपके लिए सही नहीं है।
  • Keylogger की सहायता से आपके डिवाइस में मौजूद मैसेज को पढ़ा जा सकता है Keylogger के सहायता से आपकी Mail को रीड किया जा सकता है।
  • जब आपके डिवाइस में Keylogger Install होता है तब आप किस वेबसाइट में कौन से काम कर रहे हैं यह भी पता लगाए जा सकते हैं।
  • Keylogger से प्राप्त जानकारी या इंफॉर्मेशन के जरिए है Hackers आपको फाइनेंसियल नुकसान पहुंचा सकते हैं जिसके कारण आपके पैसे अकाउंट से गायब हो सकते हैं

Keylogger कैसे काम करता है 

जब Keylogger आपके डिवाइस पर Install कर दिया जाता है तब यह आपके डिवाइस में Background में डाल Run करती रहती है और जब भी आप अपने डिवाइस पर कोई काम करते हैं तो यह आपकी सारी गतिविधियों को मॉनिटर कर लेता है और अपनी Database में रिकॉर्ड कर लेता है.

इसके बाद यह सॉफ्टवेयर स्वतः ही किसी Third Party Person व्यक्ति को Send कर देता है इस तरह से यह आपकी Privacy को नष्ट करता है तथा आपकी तथा आप से संबंधित सारी जानकारियां किसी third-person व्यक्ति के पास चला जाता है।

Keylogger से कैसे बचें :-

  • दोस्तों को ऊपर मैंने बताया कि Keylogger कितना खतरनाक है यदि आपके डिवाइस पर Keylogger Install कर दिया जाता है तो यह आप को बहुत नुकसान पहुंचा सकती है इसीलिए Keylogger से बचने के उपाय करने चाहिए Keylogger से बचने के निम्नलिखित उपाय हैं
  • हो सकता है कि Keylogger आपके कोई भी करीबी लोगों द्वारा आपके डिवाइस पर Install कर दिया गया हो इसलिए हो सके तो विश्वसनीय लोगों को अपने पास रखें।
  • जैसे कि मैंने बताया कि Keylogger हार्डवेयर के रूप में भी Install किया जा सकता है इसीलिए अपने Computer मोबाइल टैबलेट पर काम करने से पहले चेक कर लें कि कहीं उस पर कोई एक्स्ट्रा डिवाइस तो नहीं लगा है यदि आपके कीबोर्ड पर कोई एक्स्ट्रा डिवाइस लगा है तो हो सकता है कि वह Keylogger Hardware प्रोग्राम हो।
  • आजकल माउस और कीबोर्ड भी ब्लूटूथ के जरिए चलता है ऐसे Device को हैकर के द्वारा हैक करना आसान हो जाता है इसीलिए जब भी आप कोई वायरलेस माउस या फिर कीबोर्ड खरीदें तो किसी ट्रस्टेड ब्रांड से खरीदें।
  • अपने डिवाइस पर काम करते समय कम से कम हफ्ता भर में एक बार यह भी चेक कर लेना चाहिए कि कहीं आपके डिवाइस पर कोई Unwanted एप्लीकेशन तो Install नहीं है यदि कोई Unwanted एप्लीकेशन आपके डिवाइस पर Install है तब उसे तुरंत डिलीट कर देना।
  • जब भी आप अपने नेट बैंकिंग Account Login करते हैं तब आपको अपने डिवाइस का कीबोर्ड इस्तेमाल नहीं करना चाहिए बल्कि उस लॉगिन पेज में दिया गया वर्चुअल कीबोर्ड का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • दोस्तों कोई सा भी एप्लीकेशन डाउनलोड करने के लिए किसी Trustful वेबसाइट या फिर एप्लीकेशन का उपयोग करें किसी Unknown जगह से कोई एप्लीकेशन डाउनलोड ना करें।
  • अपने डिवाइस में यह सेटिंग करें कि किसी भी Unknown जगह से आपका फोन कोई चीज डाउनलोड ना करें तथा डाउनलोड करते समय Permission जरूर मांगे।
  • Keylogger से बचने के लिए ध्यान रखें कि आप कोई भी Unknown वेबसाइट पर ना जाएं Unknown वेबसाइट पर विजिट करने से हो सकता है कि वह वेबसाइट आपके डिवाइस पर Keylogger ने Install कर दे।
  • Keylogger आपके हार्डवेयर डिवाइस के अंदर भी सेट किया जा सकता है इसीलिए कोई इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस किसी Trustful Brand से ही खरीदें।
  • दोस्तों Keylogger या किसी भी वायरस से बचने के लिए यह जरूर ध्यान में रखें कि अगर किसी Unknown E-mail Id से कोई ईमेल आए और उस ईमेल में कोई Attachment File हो तब उस फाइल को Open नहीं करना चाहिए हो सकता है कि उस Attachment File में कोई वायरस हो या फिर Keylogger जैसे कोई हानिकारक सॉफ्टवेयर हो और यह आपके डिवाइस को नुकसान पहुंचा सकता है।

Amazon Pay से Mobile Recharge कैसे करें । Amazon Pay Se Recharge Kaise Karen

Amazon Pay क्या है? Amazon Pay से Mobile Recharge कैसे करें? Amazon Pay उपयोग करने के क्या क्या लाभ है? Amazon Pay Se Mobile Recharge Kaise Karen

दोस्तों आज का युग विज्ञान का युग है इस युग है। इस विज्ञान की योजना में बहुत सारी सुविधा प्रदान की है। विज्ञान में ऐसी बहुत सारी आविष्कार किया है। जिसने आज हमारी जीवन को सुविधाओं से भर दिया है। पहले जो काम हम घंटों में करते थे आज वही काम कुछ ही मिनटों में कर पाते हैं। और यह सारी सुविधाएं विज्ञान की ही देन है।

Amazon Pay से Mobile Recharge कैसे करें । Amazon Pay क्या है?
Amazon Pay से Mobile Recharge कैसे करें । Amazon Pay क्या है?

उदाहरण के लिए आप इंटरनेट को ले सकते हैं। इंटरनेट का इस्तेमाल इतना ज्यादा बढ़ गया है, कि विश्व का प्रत्येक नागरिक आज इंटरनेट का भी उपयोग करके अपने जीवन में बहुत सारी सुविधाओं का लाभ उठा रहा है। बहुत सारी सुविधाओं को हुए हैं घर बैठे उपयोग कर पा रहा है। इंटरनेट के माध्यम से घर बैठे ही अपने बोर्ड एग्जाम का रिजल्ट देख सकते हैं। कोई वैकेंसी के लिए अप्लाई कर सकते हैं। इंटरनेट पर वीडियो देख सकते हैं। ब्लॉग पढ़ सकते हैं। तथा इंटरनेट के उपयोग का उपयोग करके नेट बैंकिंग सुविधा ले सकते हैं।

ऐसी बहुत सी सुविधाओं में विज्ञान ने एक ऐसा सुविधा का आविष्कार किया है, जिसकी सहायता से हम घर बैठे ही बिना किसी लाइन में लगे अपने मोबाइल का रिचार्ज कर सकते हैं। जी हां आप अपनी मोबाइल रिचार्ज कर सकते हैं। घर बैठे बिजली के बिल का भुगतान कर सकते हैं। बिना कहीं जाए महज कुछ ही मिनटों में आप अपने फोन का कर सकते हैं। और इस प्रकार मोबाइल फोन रिचार्ज करने पर आपको कोई अतिरिक्त चार्ज भी नहीं देना पड़ेगा।

वैसे तो आजकल मोबाइल फोन को रिचार्ज करने के लिए बहुत सी तकनीक उपलब्ध है। लेकिन इस पोस्ट में हम बात करेंगे कि amazon.pay के माध्यम से अपने मोबाइल फोन का रिचार्ज कैसे करें।

इसके लिए सबसे पहले हमें यह जानना पड़ेगा कि अमेजॉन पर क्या है?

Amazon Pay क्या है? (Amazon Pay Kya Hota Hai)

दोस्तों अमेजॉन एक ई-कॉमर्स वेबसाइट है। वैसे तो शुरुआत में अमेजॉन सिर्फ किताबें ही बेचा करती थी लेकिन आज अमेजॉन आपकी मनपसंद के सारी चीजें बेंचती है। जहां से हम अपने मनपसंद की चीजों को खरीद सकते हैं। चाहे वह सामान मोबाइल हो इलेक्ट्रॉनिक हो कपड़े हो या फिर प्लास्टिक का कोई भी सामान अथवा किताब या फिर कोई कोस्मेटिक । अमेजॉन पर वे सारे प्रोडक्ट मिल जायेंगे जिसका उपयोग आप इंदौर अथवा आउटडोर में करते हैं।

Best 3Gb Ram Mobile Under 10000 In India 2020

दोस्तों जब भी कोई वेबसाइट बहुत ज्यादा ग्रो करती है। या फिर किसी वेबसाइट के बहुत ज्यादा फॉलोअर्स हो जाते हैं। तब वह वह कंपनी अपने वेबसाइट्स का एप्लीकेशन लांच कर देती है इस प्रकार अमेजॉन ने भी अपना एप्लीकेशन लॉन्च कर दिया है।

इस एप्लीकेशन पर आप अमेजॉन के वेबसाइट पर उपलब्ध सारी सुविधाओं का लाभ तो लो ही सकते हैं। साथ ही इस एप्लीकेशन पर अमेजॉन की वेबसाइट में जो सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं, उनका भी लाभ आप इस एप्लीकेशन में ले सकते हैं। इस एप्लीकेशन में एसी भी सुविधाएं दी गई हैं जो अमेजॉन के ऑफिसियल वेबसाइट में नहीं दी गई है। उदाहरण के लिए आप amazon.pay को ही ले सकते हैं।

अमेजॉन पे इंटरनेट पर उपलब्ध एक वॉलेट की तरह। है जिस प्रकार से हम अपने पैसों को रखने के लिए फिजिकल वॉलेट का उपयोग करते हैं। उसी प्रकार से amazon.pay अपने पैसों को रखने के लिए एक डिजिटल वॉलेट है। अमेजॉन पे वॉलेट में पैसे डाल भी सकते हैं, और वहां से पैसों को कहीं दूसरे जगह खर्च भी कर सकते हैं।

जिस प्रकार वालेट के पैसों को अपने मनपसंद की जगहों पर खर्च कर सकते हैं। उसी प्रकार से अमेजॉन पे पर उपलब्ध पैसे को हम अपनी मनचाही सर्विस को खरीदने के लिए उपयोग कर सकते हैं या फिर हम अपने पैसों को मनचाही जगह पर खर्च करने के लिए अमेजॉन पे का उपयोग कर सकते हैं। जैसे कि रिचार्ज करना हो, किसी को पैसे भेजना, बिजली के बिल का भुगतान करना, ऑनलाइन शॉपिंग करना, आदि जगहों पर amazon.pay के पैसों का उपयोग किया जा सकता है।

अमेजॉन पे पर निम्नलिखित सुविधाओं का लाभ उठाया जा सकता है जैसे कि-

1) Online shopping
2) mobile recharge
3) Electricity bill payment
4) water Bill payment
5) Gas bill payment
6) Online Railway ticket booking
7) Online bus booking
8) Online payment Through UPI
9) Send money to other Amazon pay wallet.
10) online flight booking
11) Mobile postpaid recharge
12) DTH recharge
13) Online bank balance check.

अमेजॉन पे पर इन सारी सुविधाओं का लाभ लिया जा सकता है। लेकिन इस पोस्ट में हम बात करेंगे कि amazon.pay के माध्यम से अपने मोबाइल फोन का रिचार्ज कैसे करें। तो चलिए जानते हैं कि अमेजॉन पर से अपने मोबाइल फोन का रिचार्ज कैसे करें-

Top 5 Best 4g Mobile Under 5000 in india

जिस प्रकार अपने पास से पैसे खर्च करने से पहले पर्स में पैसे रखना पड़ता है उसी प्रकार amazon.pay से रिचार्ज करने से पहले या फिर कोई भी खर्च करने से पहले अमेजॉन पर वॉलेट में पैसे डालने पड़ते हैं तो सबसे पहले हम जानेंगे कि अमेजॉन पर वॉलेट में मनी कैसे ऐड करें आप नीचे दिए गए स्टेप्स का उपयोग करके अपने अमेजॉन पर वॉलेट में पैसे डाल सकते हैं।
Step 1) अपनी फोन का रिचार्ज करने के लिए सबसे पहले गूगल प्ले स्टोर से Amazon Pay Application डाउनलोड करना पड़ेगा किसके लिए आप इस लिंक का भी उपयोग कर सकते हैं

Step 2) उसके बाद आप अमेजॉन पर अपना अकाउंट लॉगिन कर लीजिए।

Step 3) लॉग इन करने के बाद आप अपने अकाउंट के साथ अमेजॉन पर के होम पेज में पहुंच जाएंगे। इस पेज पर थोड़ा नीचे देखने पर आपको Amazon Pay का Option दिख जाएगा। Amazon Pay के इस ऑप्शन को क्लिक करके अगले पेज पर चले जाना है।

Step 4) इस पेज में आपको Amazon Pay Wallet मै Money Add करने के लिए Add Money के Option पर Click करना पड़ेगा। इससे आप अपने Amazon Pay Wallet मै Money Add कर सकते हैं। जैसा कि नीचे फोटो में बताया गया है। इस ऑप्शन पर आपको क्लिक करना है।

Amazon Pay से Mobile Recharge कैसे करें । Amazon Pay क्या है?
Amazon Pay से Mobile Recharge कैसे करें । Amazon Pay क्या है?

Step 5)इस बीच में आने के बाद तीसरे एरो पर दिखाए गए स्थान पर आपको वॉलेट में कितना पैसा ऐड करना है। यह फील करना पड़ेगा और उसके बाद चौथे Arrow में दिखाए गए कंटिन्यू के बटन को Click करना पड़ेगा।

Step 6) इसके बाद आगे आने वाले पेज पर आपको यह Choose करना पड़ेगा कि आप कौन से पेमेंट माध्यम से पेमेंट करना चाहेंगे। अगर आप चाहे तो क्रेडिट कार्ड का भी उपयोग कर सकते हैं। या फिर डेबिट कार्ड का उपयोग कर सकते हैं। या फिर नेट बैंकिंग का भी उपयोग कर सकते हैं। इन सारी डाटा को फील करने के पश्चात आपके अमेजॉन पे वॉलेट में पैसा ऐड हो जाएगा। और इस पैसे का उपयोग आप रिचार्ज करने के लिए फिर बिल पेमेंट करने के लिए या फिर किसी भी प्रकार का ऑनलाइन सर्विस का लाभ लेने के लिए कर सकते हैं।

ऊपर बताए गए सारी Steps में हमने यह जाना कि Amazon Pay Wallet में Money Add कैसे करते हैं। आगे आने वाले Steps में हम यह जानेंगे कि Amazon Pay के माध्यम से अपने मोबाइल को कैसे रिचार्ज करें। तो चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं कि Amazon Pay से मोबाइल रिचार्ज कैसे करें?

Amazon pay से मोबाइल रिचार्ज कैसे करें इन हिंदी। (Amazon Pay Mobile Recharge Kaise Karen)

Step 7) Amazon Pay Wallet में Money Add होने के पश्चात अमेजॉन के एप्लीकेशन में बाएं कोने पर दिखाए गए तीन लकीर पर क्लिक करना है।

Step 8) Iss तीन लकीर को Click करने के पश्चात आपके पास एक पॉपअप विंडो खुल जाएगा। इस पॉपअप विंडो में एरो 5 पर दिखाए गए Amazon Pay वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।

Step 9) Iss Arrow पर क्लिक करने के पश्चात आपके पास अमेजॉन Pay का होम पेज खुल जाएगा।

Amazon Pay से Mobile Recharge कैसे करें । Amazon Pay क्या है?

Step 10) अमेजॉन Pay के होम पेज Open हो जाने के बाद में आपको एरो 6 में दिखाए गए मोबाइल रिचार्ज के ऑप्शन पर क्लिक करना है। इस ऑप्शन को क्लिक करने के पश्चात मोबाइल रिचार्ज करने के लिए आप अगले Step में प्रवेश कर लेंगे।

Step 11) अगले पेज पर पहुंच जाने के बाद आपको Arrow 7  में दिखाए गए स्थान पर जिस मोबाइल नंबर पर रिचार्ज करना है वह मोबाइल नंबर डालना है।

Step 12) अगर आपको वह मोबाइल नंबर याद नहीं है और वह मोबाइल नंबर आपके कांटेक्ट लिस्ट में सेव है। तब एरो 8 पर दिखाए गए ऑप्शन को क्लिक करके आप जिस भी नंबर में रिचार्ज करना चाहते हैं उसको Choose कर सकते हैं।

Step 13) अपने मोबाइल नंबर को इंटर करने के पश्चात आपको वह Contact Number किस राज्य का है। यह Select करना पड़ता है। क्योंकि हो सकता है कि अलग अलग राज्य में मोबाइल रिचार्ज प्लान अलग-अलग हो इसलिए इस स्टेप में आपको अपने राज्य को पसंद कर लेना है।

Step 14) अगले स्टेट में आपको जितने रुपए का रिचार्ज करना है वह Amount Enter करना है।

Step 15) अगर आपको नहीं पता कि कौन से प्लान में क्या-क्या Benefits मिलती हैं। यह सारी चीजें जानने के लिए बगल में दिखाए गए View Plan पर क्लिक कर सकते हैं। इस पर आपको यह दिखाया जाएगा कि कौन से Plan में कितना Benefits मिलता है यह हिसाब से आप अपने Plan को Choose कर सकते हैं।

Amazon Pay से Mobile Recharge कैसे करें । Amazon Pay क्या है?
Amazon Pay से Mobile Recharge कैसे करें । Amazon Pay क्या है?

Step 16) यह सारी चीजें भरने के पश्चात पे वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है इस अवसर पर क्लिक करने के पश्चात आपके मोबाइल नंबर पर सफलतापूर्वक रिचार्ज हो जाएगा।

परिणाम (Conclusion)

तो दोस्तो इस पोस्ट में हमने जाना कि Amazon Pay क्या होता है? और Amazon Pay से Mobile Recharge कैसे करते हैं? दोस्तों आज कल ऑनलाइन धोखा धड़ी बढ़ते जा रहा है, इसलिए आप क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड और ने बैंकिंग का उपयोग ध्यान रख कर करें।

अगर इन सारे काम में थोड़ी सी लापरवाही की तो आपको बड़ा नुकसान झेलना पड़ सकता है।इसलिए पैसे से संबंधित कामों को सोच समझ कर और लोगों से पूछताछ करके करें।

OTP Ka Matlab Kya Hota Hai? – OTP का उपयोग क्यों किया जाता है व यह कितने प्रकार का होता है!

OTP का मतलब क्या होता है हिंदी में। (Otp ka Matlab Kya Hota Hai)

दोस्तों आपको पता ही है कि, यह युग विज्ञान का युग है। विज्ञान ने हमें बहुत सारे सुविधा प्रदान की हैं। तथा कुछ ऐसी मुश्किलें भी खड़ी कर दी हैं, जिनसे हमें नुकसान भी हो सकता है। विज्ञान का वरदान ही हमारे लिए अभिशाप साबित हो रही है।

आजकल हम ऐसी तकनीकों से गिरे हुए हैं, जो हमारे काम को तो आसान बनाती ही है। साथ ही हमें कई तरह से नुकसान भी पहुंचा सकती है चाहे वह नुकसान धान का ही क्यों ना हो या फिर शारीरिक या मानसिक नुकसान ही क्यों ना हो?

आज का युग Online Transaction, Net Banking, E- Commerce, और Social Meadia से घिरा हुआ है। ऐसा कोई दिन नहीं जाता जिस दिन हम Online Transaction के बारे में ना सोचते हो। या फिर Online Transaction ऐसे में हमारे धन तथा हमारे Identy (पहचान) का सुरक्षा करना भी एक चुनौती बन गया है।

अगर हम डाटा चोरी और गोपनीयता भंग के बारे में चर्चा करें तो, American Express की Report के अनुसार अमेरिका में प्रत्येक वर्ष 15 Million Identity Hack होता है। तथा 100Million Data Hack कर लिया जाता है। जिसकी वजह से कंपनियों को भारी नुकसान का सामना करना पड़ता है।

Best 3GB Ram Mobile Phone Under 10,000 In India 2020

कुल मिलाकर कहा जाए तो हमारी Security मजबूत नहीं है। हमारी Security को मजबूत करने के लिए विज्ञान को और अधिक तरक्की करनी चाहिए। ऐसे ऐसे तरीकों को खोज निकालना चाहिए जिससे हमारी Security और ज्यादा सुरक्षित हो। विज्ञान ने कुछ ऐसे ही तरीकों का भी निजात कर लिया है, जिससे कुछ हद तक हम अपनी Data को Secure कर सकते हैं। जिनमें एक तरीका OTP भी है।

इस पोस्ट में हम ओटीपी का फुल फॉर्म( OTP ka Full Form In Hindi) के बारे में जानेंगे। ओटीपी क्या है? ओटीपी का उपयोग कहां पर किया जाता है? ओटीपी का उपयोग क्यों करते हैं? ओटीपी को उपयोग करने के क्या फायदे हैं? इन सारे मुद्दों पर बात करेंगे। तो चलिए शुरू करते हैं-

ओटीपी का फुल फॉर्म क्या होता है? (OTP Ka Full Form Kya Hota Hai)

OTP Ka Matlab Kya Hota Hai? – OTP का उपयोग क्यों किया जाता है व यह कितने प्रकार का होता है!
OTP Ka Matlab Kya Hota Hai? – OTP का उपयोग क्यों किया जाता है व यह कितने प्रकार का होता है!

OTP – One Time Password । ओटीपी का फुल फॉर्म One Time Password होता है। अर्थात वह Password जिसका उपयोग की एक ही बार किया जा सके। ओटीपी की फुल फॉर्म से पता चलता है कि इसका उपयोग सिर्फ एक ही बार किया जा सकता है। दोबारा नहीं किया जा सकता है।

ओटीपी क्या होता है?(OTP Ka Matlab Kya Hota Hai Hindi Me?)

ओटीपी का फुल फॉर्म वन टाइम पासवर्ड (One Time Password) होता हैजिससे कि OTP अर्थात पासवर्ड जिसका उपयोग एक ही बार किया जा सकता है। जिसका उपयोग दोबारा नहीं किया जा सकता।

ओटीपी एक प्रकार से 4, 6 या 8 अंकों का अस्थाई पासवर्ड होता है। जो कि आपको online Transaction, or Online Identity Varification को Confirm करने के लिए भेजा जाता है। ओटीपी पासवर्ड में आपको नंबर या फिर अल्फाबेट या फिर अल्फान्यूमेरिक कोड भेजा जा सकता है। OTP 3 से लेकर 15 मिनट तक Valid होता है। उसके पश्चात वह OTP Automatically Invalid हो जाता है।

और OTP का उपयोग समय समाप्त होने के बाद नहीं किया जा सकता है। Time Limitation के बाद OTP का कोई उपयोग नहीं रह जाता है। तथा अगली बार ट्रांजैक्शन के दौरान फिर से कोई अस्थाई पासपोर्ट भेज दिया जाता है। इसलिए ओटीपी पासवर्ड को सुरक्षित माना जाता है।

ओटीपी के उपयोग से हम अपने ऑनलाइन प्रोफाइल सोशल मीडिया ट्रांजैक्शन नेट बैंकिंग इन सारे कामों को और अधिक सुरक्षित बना सकते हैं।


ओटीपी के प्रकार (OTP Ke Prakar )

ईमेल ओटीपी (Email OTP)


अगर आपका ईमेल आईडी किसी ऑनलाइन वॉलेट ऑनलाइन प्रोफाइल या नेट बैंकिंग या किसी और ओनलाइन प्रोफाइल से जुड़ा हुआ है तो आपको ओटीपी ईमेल आईडी के द्वारा भी भेजा जा सकता है इसे ईमेल ओटीपी कहते हैं।

मोबाइल नंबर ओटीपी (Mobule Number OTP)

आपकी पहचान को कंफर्म करने के लिए आपके मोबाइल नंबर मैं यह ओटीपी भेजा जा सकता है। इसे मोबाइल ओटीपी कहते हैं। इससे आपका मोबाइल नंबर उक्त प्रोफाइल से लिंक हो जाता है।

कॉल ओटीपी (Call OtP)

आपकी पहचान को कंफर्म कराने के लिए कॉल के द्वारा भी आपको टीपी भेजा जाता है इस कॉल में आपको अल्फान्यूमैरिक(Alphanumeric) को बोला जाता है और आपको उस कोड को जहां पर बोला जाए तो वहां पर दर्ज करना पड़ता है।


ओटीपी का उपयोग कहां कहां किया जाता है?(OTP Ka Upyog Kaha Hota Hai)

1) ओटीपी का उपयोग ऑनलाइन प्रोफाइल क्रिएशन के दौरान किया जाता है-

जब कभी भी आपको ऑनलाइन किसी वेबसाइट पर प्रोफाइल बनाना होता है तब ओटीपी को उपयोग करके आपको आईडेंटिफाई किया जाता है।

प्रोफाइल क्रिएशन करने के दौरान सबसे पहले आपको ईमेल आईडी या फिर यूज़र आईडी डालना पड़ता है। उसके पश्चात आपको अपना मनचाहा पासपोर्ट दर्ज करना पड़ता है। यह सारी Details Fill करने के बाद Data को Submit कर सकते हैं. उसके पश्चात आप जिस Mibile नंबर या e-mail address से प्रोफाइल क्रिएशन करना चाहते हैं. उस E-mail Id या फिर मोबाइल नंबर पर एक OTP आता है. उस ओटीपी को प्रोफाइल क्रिएशन के दौरान एंटर करने से ही आपका Profile Create होता है.

इससे यह साबित हो जाता है कि जिस ईमेल आईडी या फिर मोबाइल नंबर से आप प्रोफाइल क्रिएशन करना चाहते हैं, वह मोबाइल नंबर या फिर ईमेल आईडी आप ही का है किसी दूसरे का नहीं।

2) ओटीपी का उपयोग नेट बैंकिंग उपयोग करने के दौरान किया जाता है।

आपको पता ही है कि, आजकल Net Banking का उपयोग करने से Banking कार्य हेतु लंबी लाइन में नहीं लगना पड़ता है. आप अपने घर से ही किसी दूसरे को पैसे भेज सकते हैं, या फिर घर पर ही बैठ कर किसी दूसरे के द्वारा भेजे गए पैसे को पा सकते हैं. तो यह सुविधा जितना आसान है उतना जोखिम भरा भी है।

Best Top 5 4g Mobile Phone Under 5000

इसीलिए एस प्रक्रिया को सुरक्षित बनाने के लिए Online Transaction के दौरान OTP का प्रयोग किया जाता है. जिससे ग्राहक का खाता भी सुरक्षित रहे और उसका पैसा भी सुरक्षित रहें।

3) Online खरीददारी के दौरान ओटीपी का उपयोग किया जाता है।

ऑनलाइन खरीदारी के लिए आपने कभी न कभी Flipkart और Amazon जैसी ई-कॉमर्स वेबसाइट का उपयोग किया ही होगा। इन सारे ई-कॉमर्स वेबसाइट पर आप जिस भी सामान को खरीदना चाहते हैं। उसे सेलेक्ट करके Buy करने के दौरान आपको एक OTP द्वारा यह कंफर्म करना पड़ता है कि आप सचमुच वह सामान को खरीदना चाहते हैं और यह किसी प्रकार की Spamming नहीं है।

4) गूगल अकाउंट को क्रिएट कंफर्म करने के लिए ओटीपी का उपयोग किया जाता है।

आजकल आपके डिवाइस और आपके पहचान को और ज्यादा सुरक्षित रखने के लिए गूगल द्वारा ओटीपी के माध्यम से कंफर्म किया जाता है कि. आप सच में इस ईमेल आईडी या फिर उक्त मोबाइल नंबर के असली मालिक आप है।

5) ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के दौरान डेबिट या क्रेडिट कार्ड से पेमेंट करने के लिए ओटीपी का उपयोग किया जाता है।

आपने कभी न कभी ऑनलाइन कुछ ना कुछ सर्विस या फिर सामान तो जरूर खरीदा होगा। तो इस दौरान बिल पेमेंट करने के लिए आपने डेबिट या क्रेडिट कार्ड का उपयोग भी किया होगा‌। आपको पता होगा कि डेबिट या क्रेडिट कार्ड का उपयोग करने के लिए आपको डेबिट या क्रेडिट कार्ड का नंबर डालना पड़ता है। उसके बाद Expiry Date डालना पड़ता है. और उसके बाद CVV नंबर डालना पड़ता है.

इन सारी डाटा को Fill करने के पश्चात आपको 4,6 या फिर 8 डिजिट का एक ओटीपी नंबर भी दर्ज करना पड़ता है. इस ओटीपी नंबर को दर्ज करने के पश्चात ही आप अपने डेबिट या क्रेडिट कार्ड से पैसे को ट्रांजैक्शन कर सकते हैं ओटीपी गलत होने पर आपका ट्रांजैक्शन फेल हो जाता है।


ओटीपी के क्या क्या लाभ हैं? (OTP Ke Kya Kya Labh Hote Hain)

1) ओटीपी के उपयोग से User का पहचान हो जाता है।

जब भी हम कहीं पर ओटीपी को उपयोग करते हैं. तो उससे यह साबित हो जाता है. कि हम ही उस वेबसाइट या फिर ऑनलाइन बैंकिंग या प्रोफाइल में प्रवेश कर रहे हैं कोई दूसरा नहीं।

2) OTP आपके profile को Secure रखता है।

ओटीपी का सबसे बड़ा लाभ यह है, कि यदि किसी ऑनलाइन नेट बैंकिंग या फिर प्रोफाइल में आपका पासपोर्ट चोरी हो गया है। फिर भी आपकी प्रोफाइल को कोई Access नहीं कर सकता है। क्योंकि किसी भी इंसान को आपके प्रोफाइल को एंटर करने के लिए आपके ईमेल आईडी, और आपके पासपोर्ट, के बाद भी एक ओटीपी की जरूरत पड़ेगी। जो सिर्फ और सिर्फ आपके मोबाइल नंबर पर ही भेजी जाएगी। तो ऐसे में यदि कोई आपका पासपोर्ट जान भी लेगा फिर भी आपके प्रोफाइल को एक्सेस नहीं कर पाएगा सबसे बड़ा लाभ है यह ओटीपी का।

3) ओटीपी का उपयोग करने से आप स्पैमिंग से बच सकते हैं।

जब भी आप किसी ई कॉमर्स वेबसाइट पर या फिर किसी सर्विस लेने वाली वेबसाइट पर कोई प्रोडक्ट खरीदते हैं। तब आपके मोबाइल नंबर या फिर ईमेल आईडी पर एक ओटीपी भेजा जाता है। वह ओटीपी इसलिए भेजा जाता है ताकि इससे यह साबित हो सके कि सचमुच आप उस सामान को खरीदना चाहते हैं। और इससे यह कॉमर्स वेबसाइट को भी कंफर्म हो जाता है कि आप उस सामान को खरीदना चाहते हैं और यह प्रक्रिया आपने जानबूझकर ही की है अनजाने में नहीं।

4) ओटीपी का उपयोग आपको दोहरी सुरक्षा प्रदान करता है।

जब आप किसी नेट बैंकिंग प्रोफाइल को ओपन करते हैं तो सबसे पहले आपको उस नेट बैंकिंग का आईडी डालना पड़ता है उसके बाद पासपोर्ट डालना पड़ता है यह सारे डेटा डालने के बाद आपको एक ओटीपी भी भेजा जाता है। यह ओटीपी को डालने के बाद ही आप अपनी आईडी को एक्सेस कर सकते हैं

मान लीजिए अगर ओटीपी नहीं होता और आपके नेट बैंकिंग का पासवर्ड किसी को पता चल जाता है तब वह आपके सारे पैसे को गबन कर सकता है इसीलिए नेट बैंकिंग ओटीपी बहुत ज्यादा जरूरी है।

5) ग्राहक के लिए यह ओटीपी सेवा फ्री में है। इसके लिए कस्टमर को कोई भी पैसा कंपनी को नहीं देना पड़ता है।

6) ओटीपी सेवा बहुत तीव्र गति से कार्य करती है।

आपके मोबाइल में ओटीपी आने के लिए कुछ ही सेकंड लगते हैं। और उस ओटीपी का उपयोग करने के लिए आपको कुछ मिनट दिए जाते हैं। समय सीमा समाप्त होने के पश्चात आप उस ओटीपी का उपयोग नहीं कर सकते हैं। यह ओटीपी का एक लाभ है।